कारक

कारक
कारक is one of the most asked questions on the internet. कारक is the concept of Hindi and it is considered a very important concept of the subject. According to Wikipedia -“रूपविज्ञान के सन्दर्भ में, किसी वाक्य, मुहावरा या वाक्यांश में संज्ञा या सर्वनाम का क्रिया के साथ उनके सम्बन्ध के अनुसार रूप बदलना कारक कहलाता है। अर्थात् व्याकरण में संज्ञा या सर्वनाम शब्द की वह अवस्था जिसके द्वारा वाक्य में उसका क्रिया के साथ संबंध प्रकट होता है उसे कारक कहते हैं। संज्ञा या सर्वनाम का क्रिया से सम्बन्ध जिस रूप से जाना जाता है, उसे कारक कहते हैं। कारक यह इंगित करता है कि वाक्य में संज्ञा या सर्वनाम का काम क्या है। कारक कई रूपों में देखने को मिलता है।” This is the definition of कारक according to Wikipedia. There are various divisions of कारक. It is further divided into seven other parts which are as follows-

1.कर्ता – कार्य को करनेवाला

2. कर्म – जिस पर कार्य का प्रभाव पड़े

3. करण – जिसके द्वारा कर्ता कार्य करता है

4. संप्रदान – जिसके लिए कार्य किया जाए

5. अपादान – जिससे अलगाव हो

6. सम्बन्ध – अन्य पदों से संबंध

7. अधिकरण – कार्य का आधार

8. संबोधन – किसी को संबोधित करना

Here is the repository of helpful Hindi study material like assignments, Hindi notes pdf, question bank to help you understand the subject in a convenient way. Click here to know more.

Teachmint offers large repository of learning materials for exam preparation. With our study planner, you can ace your upcoming examinations. Explore our website to know more about our offerings like learning management systems.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *